केंद्रीय राज्य मंत्री मुरलीधर मोहोल और महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री कु. अदिति तटकरे की उपस्थिति में ‘आरोग्यवारी अभियान’ शुरू

केंद्रीय राज्य मंत्री मुरलीधर मोहोल और महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री कु. अदिति तटकरे की उपस्थिति में ‘आरोग्यवारी अभियान’ शुरू

महिला कर्मियों के स्वास्थ्य का ख्याल रखने वाला आरोग्यवारी अभियान सराहनीय : कु. अदिति तटकरे

पुणे, जुलाई (जिमाका)
राज्य महिला आयोग ज्ञानोबा-तुकाराम का जप करते हुए और ताल मृदुंग बजाते हुए वारी में चलने वाली महिला तीर्थयात्रियों के स्वास्थ्य की देखभाल की जिम्मेदारी निभा रहा है। यह विचार राज्य की महिला एवं बाल विकास मंत्री कु. अदिति तटकरे ने केंद्रीय राज्य मंत्री मुरलीधर मोहोल की मौजूदगी में ‘आरोग्यवारी अभियान’ उद्घाटन के अवसर पर व्यक्त किए।


वे पुणे नगर निगम की मदद से राज्य महिला आयोग द्वारा भवानी पेठ विठोबा मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में बोल रही थीं। कार्यक्रम में आयोग की अध्यक्षा श्रीमती रूपाली चाकणकर, सचिव माया पटोले, राज लक्ष्मी भोसले, दीपक मानकर, हेमन्त रासने, लक्ष्मी आंदेकर आदि उपस्थित थे।

मंत्री तटकरे ने कहा कि यह गतिविधि महिलाओं के स्वास्थ्य, सुरक्षा, स्वच्छता आदि की दृष्टि से अच्छी है। वारी में सभी क्षेत्रों की महिलाएँ जैसे कि बुजुर्ग, लड़कियाँ, गर्भवती महिलाएँ और स्तनपान कराने वाली माताएँ कई दिनों तक घर से दूर रहती हैं। ऐसे समय में आयोग द्वारा सेनेटरी नैपकिन वितरण जैसी सराहनीय गतिविधियों को अंजाम देते हुए अपनी धार्मिक और आध्यात्मिक परंपराओं को संरक्षित करने के साथ-साथ स्वास्थ्य की देखभाल करने की पहल सराहनीय है। उन्होंने यह भी कहा कि इस अवधि के दौरान आयोग द्वारा 250 से अधिक स्वास्थ्य केंद्र महिलाओं के लिए उपलब्ध कराये जायेंगे।


कु. तटकरे ने आगे कहा कि राज्य सरकार के इस साल के बजट में महिलाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है। मुख्यमंत्री ने ‘माझी लाडकी बहिण योजना’ शुरू करने का फैसला किया है और इसके लिए 4,600 करोड़ का प्रावधान किया है। 2.5 लाख तक की आय वाली 21 से 60 वर्ष की पात्र महिलाओं को सीधे डीबीटी के माध्यम से 1,500 रुपये प्रति माह दिए जाएंगे। इस योजना का पंजीकरण 1 जुलाई से मोबाइल ऐप या गांव में महा-ई सेवा केंद्रों और शहर में सेतु आदि के माध्यम से ऑनलाइन किया जा सकता है। पहले चरण में 15 जुलाई तक पंजीकृत लोगों की जांच की जाएगी और 16 जुलाई से लाभ दिया जाएगा।


लेक लाडकी योजना, घरटी को 3 गैस सिलेंडर प्रदान करने वाली मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना, पुण्यश्लोक अहिल्या देवी होल्कर महिला स्टार्टअप योजना, महिला स्वयं सहायता समूहों को कार्यशील पूंजी, स्वास्थ्य उपकरण और हर स्वास्थ्य केंद्र में स्तन और कैंसर की जांच की सुविधा, अन्य पिछड़ा वर्ग जिनकी पारिवारिक आय 8 लाख रुपये से कम है और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्रों की उच्च शिक्षा के लिए कई योजनाएं प्रदान की गई हैं जैसे ट्यूशन फीस और परीक्षा शुल्क की पूरी वापसी।

पहले चरण में, पुणे सहित 17 शहरों में महिलाओं को 19 हजार ई-पिंक रिक्शा प्रदान किए जाएंगे और अकेले पुणे शहर में 1 हजार ई-पिंक रिक्शा प्रदान किए जाएंगे। भविष्य में इन रिक्शों को उबर, ओला जैसे प्लेटफॉर्म से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा और अगर महिलाएं यात्रा के लिए पंजीकरण कराती हैं तो वे महिला ड्राइवरों के साथ ई-पिंक रिक्शा में यात्रा कर सकेंगी।

प्रत्येक वारकरी दिंडी को 20,000 रुपये देने और वारी को विश्व धरोहर में शामिल करने के लिए यूनेस्को को प्रस्ताव भेजने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने श्री मोहोल के माध्यम से अनुवर्ती कार्रवाई करने का भी अनुरोध किया।
स्वास्थ्य अभियान में निरंतरता सराहनीय- केंद्रीय राज्य मंत्री मुरलीधर मोहोल
केंद्रीय राज्य मंत्री श्री मुरलीधर मोहोल ने कहा कि जब महिलाएं वारी में यात्रा करती हैं तो कई स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। ऐसे अवसरों पर उनकी देखभाल करने और स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए आयोग द्वारा वहां के स्थानीय प्रशासन की मदद से यह पहल पिछले तीन वर्षों से लगातार क्रियान्वित की जा रही है, यह प्रशंसनीय है।

श्री मोहोल ने कहा कि महिलाएं इस सहयोग, न्याय के लिए महिला आयोग की ओर देखती हैं। आयोग घरेलू हिंसा की रोकथाम, महिला हिंसा के मुद्दे, सुरक्षा पहल, विधवा पुनर्विवाह जैसे कई पहलुओं पर अच्छा काम कर रहा है। महिलाओं के लिए एक टोल-फ्री नंबर उपलब्ध कराया गया है तथा उस पर किसी भी समय संपर्क कर समस्या एवं कठिनाइयों को उठाने की सुविधा प्रदान की गयी है। इसलिए, महाराष्ट्र की महिला सुरक्षा की संस्कृति को संरक्षित किया जा रहा है।

श्रीमती चाकणकर ने कहा, पिछले तीन वर्षों से आरोग्यवारी अभियान चलाया जा रहा है। महिलाओं के लिए प्रत्येक प्रवास स्थल पर स्थापना कक्ष, स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए हिरकनी कक्ष, बुजुर्ग महिलाओं के लिए शौचालय कक्ष, सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग के साथ-साथ बर्निंग मशीन के साथ-साथ महिला चिकित्सक की भी व्यवस्था की गई है। प्रत्येक 1 से 1.5 किमी की दूरी पर सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग के साथ-साथ बर्निंग मशीनों की भी व्यवस्था की गई है। महिलाओं की सुरक्षा के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए ‘1091’ टोल फ्री नंबर की व्यवस्था की गई है, फेस पर एलईडी वैन भी लगाई गई हैं, उन्होंने महिला आयोग के कार्यों की जानकारी दी।

प्रारंभ में कु. तटकरे ने आरोग्यवारी अभियान और महिलाओं के लिए बनाए गए एक कक्ष का उद्घाटन किया। इस कक्ष में हिरकनी कक्ष, महिलाओं के लिए नैपकिन वेंडिंग मशीन आदि का उद्घाटन किया गया।

पुणे नगर स्वास्थ्य अधिकारी कल्पना बालिवंत, उपायुक्त संदीप कदम, अविनाश सपकाल, जोनल अधिकारी अस्मिता तांबे और नगर स्वच्छता पहल की अन्य महिला कर्मचारी और महिलाएं बड़ी संख्या में कार्यक्रम में शामिल हुईं।

Spread the love

Post Comment