‘एमआईटी एडीटी’ यूनिवर्सिटी में खेलो इंडिया खेल चयन कार्यक्रम का आयोजन

‘एमआईटी एडीटी’ यूनिवर्सिटी में खेलो इंडिया खेल चयन कार्यक्रम का आयोजन

हड़पसर, जून (हड़पसर एक्सप्रेस न्यूज़ नेटवर्क)
भारतीय खेल प्राधिकरण (एसआई) 22 से 25 जून 2024 तक एमआईटी यूनिवर्सिटी ऑफ़ आर्ट, डिज़ाइन एंड टेक्नोलॉजी, विश्वराजबाग, पुणे में खेलो इंडिया राइजिंग टैलेंट आइडेंटिफिकेशन (कीर्ति) कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसका उद्देश्य खिलाड़ियों को एक्सपोज़र प्रदान करना है। यह पूरे पश्चिमी भारत में प्रतिभाशाली एथलीटों की खोज और पोषण की दिशा में भारत सरकार द्वारा उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है।

‘एमआईटी एडीटी’ छात्र कल्याण विभाग के प्रमुख प्रोफेसर डॉ.सूराज भोयार, शिव छत्रपति पुरस्कार विजेता खेल विभाग के निदेशक प्रोफेसर पद्माकर फड के प्रबंधन और मार्गदर्शन में बैडमिंटन और मुक्केबाजी (22 जून), एथलेटिक्स (23 जून), फुटबॉल और खो-खो (24 जून) व कबड्डी और वॉलीबॉल (25 जून) खेलों का मूल्यांकन किया जाएगा। प्रक्रिया दो चरणों में पूरी की जाएगी। पहला, सामान्य शारीरिक मापदंडों का मूल्यांकन, उसके बाद प्रत्येक खेल प्रकार के अनुरूप खेल-विशिष्ट मूल्यांकन। इन मूल्यांकनों में उत्कृष्टता प्राप्त करनेवाले एथलीटों को उनके प्रदर्शन का विवरण देनेवाले टैलेंट असेसमेंट सेंटर (टीएमसी) से एक प्रमाणपत्र भी प्रदान किया जाएगा। इस परीक्षा में सफल होनेवाली प्रतिभाओं को खेलो इंडिया एथलीट (केआईए) जैसे उच्चस्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रमों में चयनित होने का मौका मिलेगा।

भारत सरकार के इस दो दिवसीय चयन परीक्षण कार्यक्रम में राज्य के युवा एवं प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को भाग लेना होगा और एवं पंजीयन के लिए आयोजक ने श्री सुनील मोरे से मोबाइल 9763398136 पर से संपर्क करने की अपील की है।

एमआईटी एडीटी विश्वविद्यालय के कार्यकारी अध्यक्ष और कुलपति प्रोफेसर डॉ. मंगेश कराड ने उक्त पहल हेतु भारत सरकार को धन्यवाद देते हुए कहा कि एमआईटी एडीटी यूनिवर्सिटी हमेशा छात्रों के समग्र विकास पर जोर देती है, जिसमें खेल का क्षेत्र एक अनूठी भूमिका निभाता है। एक अच्छा खिलाड़ी हिम्मत, दिमाग और चरित्र से संपन्न होता है, जो भविष्य में राज्य के साथ देश का नाम रोशन करता है, इसलिए इस टूर्नामेंट के माध्यम से हमें निश्चित रूप से गर्व है और हम भविष्य के प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए एक मंच देने में सक्षम होने पर भी उतने ही खुश हैं।

Spread the love

Post Comment