रेलवे विभाग 1250 मेल और एक्सप्रेस रेलगाड़ियों में अतिरिक्त कोच लगाने की कर रहा है तैयारी, यात्रियों को मिलेगी राहत

रेलवे विभाग 1250 मेल और एक्सप्रेस रेलगाड़ियों में अतिरिक्त कोच लगाने की कर रहा है तैयारी, यात्रियों को मिलेगी राहत

-मेल-सुपर फास्ट ट्रेन में जनरल कोच की संख्या बढ़ेगी

-2500 सामान्य कोच का अतिरिक्त उत्पादन करने का फैसला

-सालाना 18 करोड़ से ज्यादा यात्री सफर करेंगे

पुणे, जून (हड़पसर एक्सप्रेस न्यूज नेटवर्क)
केंद्र सरकार मेल और एक्सप्रेस ट्रेन में सामान्य श्रेणी कोच (जनरल कोच) की संख्या बढ़ाने जा रही है। इसके तहत 2500 सामान्य कोच का अतिरिक्त उत्पादन करने का फैसला किया गया है। इस फैसले से आम जनता को राहत मिलेगी। इससे सामान्य बोगियों में सालाना अतिरिक्त 18 करोड़ से अधिक यात्री सफर कर सकेंगे।

रेलवे बोर्ड ने मंगलवार की बैठक में 2500 सामान्य श्रेणी के अतिरिक्त कोच उत्पादन का फैसला किया है। कोच रेलवे के प्रति वर्ष कोच उत्पादन प्रोग्राम के अतिरिक्त होंगे। मेल एक्सप्रेस व सुपरफास्ट ट्रेन में सामान्य कोच आमतौर पर दो से चार के बीच में होते हैं। योजना के मुताबिक जिन ट्रेनों में दो कोच हैं, उनमें इनकी संख्या चार की जाएगी। जिन में कोई सामान्य श्रेणी के कोच नहीं हैं, उनमें दो कोच लगाए जाएंगे।

इस प्रकार दो कोच के हिसाब से 1250 मेल और एक्सप्रेस ट्रेन में 2500 कोच लगाये जाएंगे। कोच की डिजाइन 150 से 200 यात्री क्षमता के अनुसार होगी। इससे प्रतिदिन 2500 कोच में पांच लाख अतिरिक्त आम यात्री सफर कर सकेंगे। यानी मेल-एक्सप्रेस ट्रेन की इन सामान्य कोच में अतिरिक्त 18 करोड़ 25 लाख से अधिक यात्री ले जाने की सालाना क्षमता हो जाएगी। यह सभी कोच चालू वित्तीय वर्ष में बनकर तैयार हो जाएंगे। 1377 स्लीपर श्रेणी के कोच भी बनेंगे।

एक दशक के अंदर कोच उत्पादन में आई तेजी
रेलवे ने पिछल एक दशक में कोच उत्पादन क्षमता में तेजी से वृद्धि की है। वित्तीय वर्ष में 2014-15 में 555 एलएचबी (कुल 3045 कोच) कोच का उत्पादन किया गया था। जबकि 2023-24 में 7,151 कोचों का उत्पादन करने का लक्ष्य रखा है। इस प्रकार चालू वित्तीय वर्ष 2024-25 में 8692 कोच उत्पादन किये जाएंगे। इसमें 50 अमृत भारत ट्रेन (पुल-पुश तकनीक) के लिए एसी-नॉन एसी कोच बनेंगे। वंदे भारत ट्रेन के लिए 1600 कोच का उत्पादन किया जाएगा।

Spread the love

Post Comment