विद्युत दुर्घटना के खतरे से बचने के लिए ‘सर्किट ब्रेकर’ के सुरक्षा कवर का करें उपयोग : बिजली उपभोक्ताओं से महावितरण द्वारा अपील

विद्युत दुर्घटना के खतरे से बचने के लिए ‘सर्किट ब्रेकर’ के सुरक्षा कवर का करें उपयोग : बिजली उपभोक्ताओं से महावितरण द्वारा अपील

पुणे, जुलाई (हड़पसर एक्सप्रेस न्यूज नेटवर्क)
भारी बारिश के कारण विद्युत दुर्घटनाओं के खतरों से बचने के लिए नागरिकों को घरेलू और सार्वजनिक बिजली प्रणालियों के प्रति सावधान और सतर्क रहने की जरूरत है। इसके साथ ही कई बार घरों, दुकानों, सोसाइटी व अन्य भवनों में आंतरिक वायरिंग, विभिन्न उपकरणों या लोहे के सामान में करंट लगने से विद्युत दुर्घटनाएं हो रही हैं। ऐसा मुख्य रूप से ग्राहक की आंतरिक वायरिंग में करंट लीकेज या उचित क्षमता के सर्किट ब्रेकर, अर्थिंग की कमी के कारण प्रतीत होता है, इसलिए महावितरण ने विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा कवच के रूप में घरों या अन्य संरचनाओं में सर्किट ब्रेकर (‘ईएलसीबी’, ‘आरसीसीबी’, ‘एमसीबी’) लगाने की महावितरण ने अपील की है।

विद्युत प्रणाली लेआउट में विद्युत खतरे से बचने के लिए उचित ‘अर्थिंग’ मौलिक व आवश्यक है। यदि किसी घर या अन्य प्रतिष्ठान में आंतरिक विद्युत प्रणाली विफल हो जाती है और बिजली की आपूर्ति बिना किसी रुकावट के जारी रहती है, तो दुर्घटना की संभावना अधिक होती है। विद्युत आपूर्ति तत्काल बाधित की जानी चाहिए। इसके लिए घर, सोसाइटी या अन्य संरचनाओं में सर्किट ब्रेकर जैसे अर्थ लीकेज सर्किट ब्रेकर (ईएलसीबी), रेजिडुअल करंट सर्किट ब्रेकर (आरसीसीबी) मिनिएचर सर्किट ब्रेकर (एमसीबी’) लगाना जरूरी है। आंतरिक तारों या उपकरण दोषों के कारण विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सर्किट ब्रेकर प्राथमिक और महत्वपूर्ण सुरक्षा जाल है।

सर्किट ब्रेकर का उपयोग विभिन्न उपकरणों की अधिक बिजली खपत, विद्युत सर्किट में खराबी के परिणामस्वरूप करंट रिसाव, शॉर्ट सर्किट, वोल्टेज वृद्धि, अर्थ फॉल्ट आदि के कारण होने वाली विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बिजली के प्रवाह को बाधित करने के लिए किया जाता है। यह सर्किट ब्रेकर आमतौर पर दो हजार से तीन हजार रुपये की कीमत पर उपलब्ध होता है। चूंकि सर्किट ब्रेकर एक सुरक्षा कवच है, इसलिए इसे घर, कार्यालय आदि में स्थापित करना आवश्यक है।

यह सुनिश्चित करना बहुत महत्वपूर्ण है कि ‘अर्थिंग’ अच्छी स्थिति में हो और विद्युत दुर्घटनाओं से बचने के लिए कम से कम हर दो साल में एक बार ऐसा किया जाए। नये भवन का निर्माण करते समय अर्थिंग के साथ-साथ सर्किट ब्रेकर लगाना भी अनिवार्य है, लेकिन अगर पुरानी इमारतों में यह नहीं है तो इसे तुरंत लगवाना जरूरी है।

एक जीवन रक्षक है इलेक्ट्रिकल टेस्टर – बाजार में लगभग 20 रुपये से 50 रुपये में उपलब्ध इलेक्ट्रिक टेस्टर विद्युत दुर्घटनाओं के खतरों को रोक सकते हैं। गीली दीवार, टिन की चादर, कपड़े सुखाने के लिए लोहे के तार, फ्रिज, टीवी, कंप्यूटर, गीजर या पानी का नल, कूलर आदि को छूने पर झुनझुनी हो सकती है, साथ ही गीले लोहे के पाइप, कृषि पंप बॉक्स, पानी के मोटर पंपों को बिजली से जांचना चाहिए। इसे छूने से पहले परीक्षण करें। पैरों के लिए रबर या प्लास्टिक की चप्पलों का प्रयोग करना चाहिए।
यह जानकारी पुणे महावितरण कंपनी के उपमुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री निशिकांत राऊत द्वारा दी गई है।

Spread the love
Previous post

नीति आयोग के सदस्य (विज्ञान) डॉ. वी.के. सारस्वत ने सड़क निर्माण में स्टील स्लैग के उपयोग के लिए दिशानिर्देश जारी किए

Next post

पुणे रेल मंडल द्वारा जून में बिना टिकट यात्रा करनेवालों से 1.50 करोड़ रुपये जुर्माना वसूल

Post Comment