नागरिक मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर भाग लें : जिलाधिकारी डॉ. सुहास दिवसे

नागरिक मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर भाग लें : जिलाधिकारी डॉ. सुहास दिवसे

पुणे, जून (जिमाका)
भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार और आगामी विधानसभा चुनाव के अनुरूप जिले में 1 जुलाई 2024 के आधार पर फोटोयुक्त मतदाता सूची का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम घोषित किया गया है तथा नागरिकों को मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर भाग लेना चाहिए। यह अपील जिलाधिकारी डॉ. सुहास दिवसे ने की है।

जिलाधिकारी कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में डॉ. दिवसे बोल रहे थे। इस अवसर पर यहां उपजिला चुनाव अधिकारी मीनल कलसकर, पुणे महानगरपालिका के उपायुक्त राजू नंदकर उपस्थित थे।

श्री दिवसे ने कहा कि पुनरीक्षण प्रक्रिया के तहत समेकित प्रारूप मतदाता सूची 25 जुलाई को जारी की जाएगी। दावे एवं आपत्तियां स्वीकार करने की अवधि 25 जुलाई से 9 अगस्त 2024 तक है। दावों और आपत्ति को स्वीकार करने की अवधि में राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा निर्धारित शनिवार और रविवार को विशेष मिशन लागू किए जाएंगे। दावे एवं आपत्तियों का निस्तारण 19 अगस्त 2024 तक किया जाएगा तथा मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 20 अगस्त 2024 को किया जाएगा।

मतदाता सूची का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम आगामी चुनावों के मद्देनजर महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर मतदाता जागरूकता हेतु विभिन्न गतिविधियाँ भी आयोजित की जाएंगी। इसमें मृत मतदाताओं का नाम हटाना, नए मतदाताओं का नाम दर्ज करना जैसे कार्यक्रम कार्यान्वित किए जाएंगे। जिले में 18 से 19 वर्ष की आयु के युवाओं की चुनावी प्रक्रिया में भागीदारी बढ़ाने के लिए महाविद्यालय में मतदाता पंजीकरण के लिए विशेष अभियान लागू किया जाएगा।

मतदान केंद्रस्तरीय अधिकारियों एवं राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के सहयोग से मतदाता सूची का शुद्धिकरण किया जायेगा। इसके लिए महानगरपालिका, जिला परिषद व नगरपालिका स्तर के अधिकारियों का सहयोग लिया जाएगा। हाउसिंग सोसाइटियों में मतदान केंद्र पर मतदान प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए 1000 से अधिक मतदाताओंवाली हाउसिंग सोसाइटियों में मतदान केंद्र स्थापित करने का प्रयास किया जाएगा। एक ही स्थान पर एक से अधिक मतदान केंद्र होने पर प्रत्येक केंद्र पर मतदाताओं की संख्या लगभग बराबर रहेगी, ऐसा प्रयास किया जाएगा।

अस्थायी मतदान केंद्रों को स्थायी जगह में स्थानांतरित करना, मतदाताओं के नाम निकटतम मतदान केंद्र की सूची में रहेंगे, इसका ख्याल रखना, मतदाता सूची के संबंध में राजनीतिक दलों के अच्छे निर्देशों के अनुरूप आवश्यक कार्रवाई करना आदि इस अभियान के दौरान काम किए जाएंगे।
लोकसभा चुनाव के बाद मतदाता सूची में नाम दर्ज कराना, मृत मतदाताओं के नाम हटाना, मतदाता सूची में नाम के आगे विवरण में बदलाव के लिए बड़ी संख्या में आवेदन आ रहे हैं। अब तक 1 लाख 60 हजार आवेदन लंबित हैं और अगले कुछ दिनों में इस पर फैसला लिया जाएगा। नागरिक मतदाता सूची में ऑनलाइन नामांकन या विवरण के संशोधन के लिए https://voters.eci.gov.in इस वेबसाइट पर जाएँ।
ऑनलाइन आवेदन पत्र की एक प्रति मतदाता पंजीकरण अधिकारी या तहसील कार्यालय में जमा की जा सकती है।

आगामी विधानसभा चुनाव प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए मतदान केंद्र स्तर के अधिकारियों और राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को एक साथ प्रशिक्षित किया जाएगा।

फोटोयुक्त मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए नागरिक विभिन्न जागरूकता कार्यक्रमों में भाग लें। यह अपील भी जिलाधिकारी डॉ. सुहास दिवसे ने की।

Spread the love

Post Comment