माणिकडोह के आईटीआई (आदिवासी) द्वारा विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करने हेतु अपील

माणिकडोह के आईटीआई (आदिवासी) द्वारा विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करने हेतु अपील

पुणे, जून (जिमाका)
शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था (आदिवासी) माणिकडोह, जुन्नर में सत्र 2024-25 के लिए विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए 30 जून तक https://admission.dvet.gov.in इस वेबसाइट पर ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए अपील की गई है।

माणिकडोह के शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था सातारा, सांगली, सोलापुर, कोल्हापुर व पुणे जिलों के लिए यह एकमात्र आदिवासी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था है। इस संस्था से कई छात्र व्यावसायिक शिक्षा लेकर आत्मनिर्भर हो गये हैं तथा रोजगार एवं स्वरोजगार कर रहे हैं। संस्था में प्रात्यक्षिकाभिमुख प्रशिक्षण के लिए सभी नवीनतम सुविधाएं उपलब्ध हैं। ऑनलाइन प्रवेश आवेदन भरने के लिए 10 वीं के नतीजे के बाद तुरंत ही प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो गई है।

संस्था में वेल्डर (जीटीएडब्ल्यू और जीएमएडब्ल्यू) प्रवेश क्षमता 40, मैकेनिक डीजल 48, कंप्यूटर ऑपरेटर और प्रोग्रामिंग सहायक 24, वेल्डर, ड्रेस मेकिंग प्रत्येक 20 प्रवेश क्षमता का एक वर्षीय पाठ्यक्रम और वायरमैन, टर्नर प्रत्येक 20 प्रवेश क्षमता, पेंटर (सामान्य), मशीनिस्ट प्रत्येक 40, इनफॉरमेशन टेक्नॉलॉजी एन्ड इलेक्ट्रीक सिस्टिम मेंटनेन्स, मैकेनिक मोटर वाहन, टूल एंड डाइमेकर प्रत्येक 24 प्रवेश क्षमतावाले दो साल के पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं।
संस्था में प्रवेश हेतु स्कूल छोड़ने के प्रमाणपत्र की मूल प्रति, 10वीं की मार्कशीट, आई-कार्ड साइज 4 फोटो, आधारकार्ड की फोटोकॉपी, विकलांग होने पर जिला शल्य चिकित्सक का प्रमाणपत्र, जाति प्रमाणपत्र, नॉन क्रीमी लेयर प्रमाणपत्र, एनसीसी, एमसीसी और स्काउट होने पर प्रमाणपत्र, इंटरमीडिएट ड्राइंग होने पर प्रमाणपत्र, जिला और राज्य खेल होने पर प्रमाण पत्र, बैंक खाते की (प्राथमिकता भारतीय स्टेट बैंक को) पासबुक की फोटोकॉपी, छात्रवृत्ति के लिए निवास प्रमाणपत्र और तहसील कार्यालय से आय प्रमाणपत्र आदि दस्तावेज़ आवश्यक हैं। साथ ही प्रवेश आवेदन पत्र भरते समय उल्लिखित पहला मोबाइल नंबर प्रशिक्षण पूरा होने तक सक्रिय होना आवश्यक है।

अधिक जानकारी के लिए उम्मीदवारों को वेबसाइट पर जाना चाहिए। साथ ही इच्छुक उम्मीदवारों को नजदीकी नागरिक सुविधा केंद्र से ऑनलाइन आवेदन जमा करें। यह अपील आईटीआई (आदिवासी) माणिकडोह के प्राचार्य दत्ता जगताप ने की है।

Spread the love

Post Comment